Jul 19, 2018
38815 Views
Comments Off on Fraud: आनंद कुमार के सुपर 30 को लेकर बड़ा खुलासा, बिहार का एजुकेशन माफ़िया का चेहरा आया सामने
5 0

Fraud: आनंद कुमार के सुपर 30 को लेकर बड़ा खुलासा, बिहार का एजुकेशन माफ़िया का चेहरा आया सामने

Written by

न्यूज़ डेस्क: बिहार या देश का कोई ऐसा व्यक्ति नही है जो सुपर-30 के बारे में नही जानता हो। इसी लोकप्रियता की वजह से तो सुपर 30 के संस्थापक आनंद कुमार के ऊपर फिल्म भी बन रही है। जिसे जोर शोर से प्रचारित भी किया जा रहा है। लेकिन हैरान करने वाली सच तो ये है कि जिस सुपर 30 को लोग जानते हैं। वैसा सुपर 30 पटना में कहीं हैं हीं नही। ना हीं उसका सुपर-30 के नाम से कहीं निबंधन हुआ है। तो फिर आप सोच रहे होंगे सुपर 30 के नाम पर जो बच्चे हर साल 30 में 26 तो कभी 30 में 30 टॉप करते हैं वो कौन हैं? आपको बता दें कि वो सब रामानुजम क्लास्से के छात्र हैं। जो आनंद कुमार का हीं रजिस्टर्ड संस्था है। वहां केवल 30 नहीं हजारों स्टूडेंटस का नामांकन लिया जाता है।

साथ ही उन सभी बच्चों से मोटी फी की रकम भी वसूली जाती है। फिर रामानुजम संस्थान के नाम पर एडमिशन लिए हुए छात्रों को कुम्राहरार स्थित आनंद कुमार के फार्म पर पढ़ाई के लिए ट्रांसफर किया जाता है। बाहर और अंदर से इस तथाकथित सुपर 30 को ऐसे बनाया गया है कि सुपर 30 को आसानी से चैरीटेबल फंड मिल जाये। संस्थान के पूर्वर्ती छात्र बताते हैं कि जो लोग ये समझते है कि सुपर 30 में केवल 30 स्टूडेंट हीं पढ़ते हैं। वो बिलकुल हीं गलत हैं। यहां हजारों छात्र पढ़ते हैं। वो भी संस्थान को फी देकर। उनमें से जो छात्र IIT क्वालीफाई करता है।उसे मीडिया के सामने लाकर खूब प्रचारित किया जाता है। और वाहवाही बटोरी जाती है। मीडिया रिपोर्ट्स की बात करें तो आनंद कुमार संस्थान के नाम पर अभी तक करोड़ो का एम्पायर खड़ा कर चुकें हैं।

पटना में भाई और मां के नाम पर खरीदे हैं कई महंगे प्लॉट

राजधानी में अपनी मां जयंती देवी और भाई प्रणव कुमार के नाम से खरीदे गए कई कीमती भूखंड के वो अपरोक्ष रुप से मालिक हैं। पटना के जक्कनपुर थाना अंतर्गत चांदपुर-बेला में ही आनंद ने अपनी मां और भाई के नाम पर पांच कीमती प्लाटों की खरीदारी की। यह सभी खरीदारी वर्ष 2013 में की गई। रजिस्ट्री कार्यालय में इन खरीदारी से संबंधित डीड नंबर 14218/2013 में यह स्पष्ट है। इस डीड के में आनंद की मां जयंती देवी, पत्नी स्व. राजेन्द्र प्रसाद व प्रणव कुमार, पिता स्व. राजेन्द्र प्रसाद के नाम से कई भूखंड चांदपुर बेला में निबंधित कराए गए हैं जिसका खाता नंबर 6, 6 और 14 है। जबकि प्लॉट नंबर 25, 25 और 28 है। इस डीड में जमीन खरीदने वाले व्यक्ति के पता के स्थान पर शांति कुटीर, शांति पथ, चांदपुर बेला का पता दर्ज है।

Article Categories:
Bhagalpur · Crime · Gulf News Hindi